पटना में प्रसव के दौरान नवजात की मौत हो गई जबकि मां ने भी इसके कुछ समय बाद दम तोड़ दिया। इसके बाद मृतिका सोनी देवी (30) के गुस्साये परिजनों ने पीरबहोर थाना इलाके के मखनियां कुआं स्थित एक निजी अस्पताल में जमकर हंगामा किया। अस्पताल में तोड़फोड़ की गई।

गुस्साए परिजनों ने डॉक्टरों और अन्य कर्मियों के साथ मारपीट भी की। हंगामा और बवाल को देखकर अस्पताल में तैनात डॉक्टर व अन्य कर्मी भाग खड़े हुए। इधर, बवाल की खबर मिलते ही मौके पर पहुंची पीरबहोर थाने की पुलिस ने किसी तरह हालात को संभाला। अस्पताल के दो कर्मियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। ]

दरअसल सालिमपुर की रहने वाली 30 वर्षीय गर्भवती सोनी देवी को बुधवार की सुबह परिजन इस अस्पताल में लेकर पहुंचे थे। एक महिला और एक पुरुष डॉक्टर डिलीवरी करा रहे थे। सोनी के पति व होटल संचालक गोपाल कुमार के मुताबिक लापरवाही बरतने के कारण उनकी पत्नी और बच्चे की मौत हो गई। 

परिजनों ने बताया कि नवजात की मौत के बाद सोनी की तबीयत भी बिगड़ गयी। यह देख परिजन उसे एक राजेंद्रनगर स्थित एक निजी अस्पताल ले जाने लगे। लेकिन रास्ते में ही सोनी ने दम तोड़ दिया। इसके बाद परिजन वापस मखनिया कुआं स्थित उस अस्पताल में पहुंचे जहां जिस पर लापरवाही का आरोप लगा है। v

परिजनों ने अस्पताल में हंगामा करना शुरू कर दिया। उनका आरोप है कि अस्पताल रजिस्टर्ड भी नहीं है। लेकिन यहां धड़ल्ले से गंभीर मरीजों का इलाज किया जाता है। पीरबहोर थानेदार के मुताबिक पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। लिखित शिकायत मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। 

हिरासत में लिए गए अस्पताल के कर्मियों से पूछताछ जारी है। अस्पताल की एक नर्स ने बताया कि चार दिन पहले ही उसने यहां ज्वाइन किया है। नर्स से फिलहाल पुलिस इन आरोपों के बाबत पूछताछ कर रही है।b

Leave a Reply