girl

बिहार में ग्रेजुएट छात्राओं के लिए बड़ी खुशखबरी है. नीतीश कुमार सरकार 53600 छात्राओं को 25000-25000 रुपये प्रोत्साहन राशि प्रदान करेगी. बिहार के शिक्षा विभाग ने इस स्कीम के लिए 134 करोड़ रुपये के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है. जल्द ही छात्राओं के बैंक अकाउंट में प्रोत्साहन राशि ट्रांसफर कर दी जाएगी. रिपोर्ट के अनुसार यह प्रोत्साहन राशि वित्त रहित मान्यता प्राप्त कॉलेजों से 2018 के बाद ग्रेजुएट हुई छात्राओं को दी जाएगी. विभिन्न विश्वविद्यालयों से ग्रेजुएट करीब सवा दो लाख छात्राओं ने प्रोत्साहन राशि के लिए आवेदन किया है. पिछले महीने 14 हजार स्टूडेंट्स को करीब 35 करोड़ रुपये दिए गए थे. इससे पहले 11 हजार से ज्यादा छात्राओं को यह राशि प्रदान की गई थी. बता दें कि मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना के तहत ग्रेजुएट छात्राओं को राज्य सरकार के कल्याण विभाग की तरफ से एकमुस्त 25000 रुपये प्रदान की जाती

रिपोर्ट के अनुसार प्रोत्साहन राशि के लिए आवेदन करने वाली छात्राओं सर्टिफिकेट की जांच शिक्षण संस्थानों द्वारा जांच के बाद डीबीटी के जरिये बैंक अकाउंट में ट्रांसफर की जाएगी. राज्य के विभिन्न विश्वविद्यालयों से ग्रेजुएट 2.20 लाख छात्राओं के अकाउंट में 550 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए जाने थे. जिसमें से अभी 1.90 लाख छात्राओं को प्रोत्साहन राशि दी जानी है.

इन विश्वविद्यालय की छात्राओं का नहीं हो पाया है सत्यापन
बता दें कि बिहार सरकार द्वारा ग्रेजुएट प्रोत्साहन योजना के तहत धनराशि विवाहित और अविवाहित दोनो ही छात्राओं को प्रदान की जाती है. बिहार के वीर कुंवर सिंह, जयप्रकाश नारायण और मगथ विश्वविद्यालय की लापरवाही के कारण तीनों विश्वविद्यालय के मान्यता प्राप्त कॉलेजों की छात्राओं का सत्यापन नहीं हो पाया है. शिक्षा विभाग ने तीनों विश्वविद्यालयों की लापरवाही को गंभीरता से लिया है.उच्च शिक्षा निदेशक ने कहा कि उन्हें हाथों-हाथ सत्यापन करवाकर देना होगा, नहीं तो उन पर कार्रवाई होगी. एक अप्रैल 2021 के बाद स्नातक कर चुकी छात्राओं के लिए योजना की राशि दोगुनी यानी 50 हजार मिलनी है.

Leave a Reply