बिहार सरकार के अधिकारियों और कर्मचारियों ने गुरुवार को संपत्ति का ब्योरा जारी किया है। सामान्य प्रशासन विभाग की वेबसाइट पर इसे अपलोड किया गया है। इनके द्वारा जारी ब्योरे के अनुसार अचल संपत्ति के मामले में इनकी पसंद राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम, फरीदाबाद और गाजियाबाद जैसे शहर हैं। वहीं, कुछ के फ्लैट और प्लॉट (भूखंड) बेंगलुरू, पटना, लखनऊ और रांची आदि शहरों में भी है। कुछ अफसर जहां गहनों के शौकीन हैं तो कुछ आर्म्स (हथियार) के भी। ऐसे भी अफसर हैं जिनके पास संपत्ति के नाम पर कुछ खास नहीं है। वहीं, कुछ लाखों के कर्जदार भी हैं। 

मुख्य सचिव के पास मारुति 800 व नकद 32 हजार

मुख्य सचिव आमिर सुबहानी के पास नकद 32 हजार 850 रुपये हैं। वहीं, पीपीएफ में 10 लाख 67 हजार जमा हैं। इनके पास वर्ष 2013 मॉडल की मारुति 800 ऑल्टो कार है। दो फ्रिज और दो एसी भी हैं। सीवान के बहुआरा गांव में करीब एक बिगहा खेती की जमीन है, जिसका परिवार में बंटवारा नहीं हुआ है। बेली रोड में जगत अमरावती अपार्टमेंट में 1425 वर्गफीट का फ्लैट है।  

सोने-चांदी और हीरे के शौकीन हैं डीजीपी दंपती 

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एसके सिंघल पति-पत्नी सोने-हीरे के खूब शौकीन हैं। इनके पास 560 ग्राम सोना और 40 ग्राम सोने के साथ हीरे का एक सेट भी है। डीजीपी की पत्नी 1950 ग्राम चांदी की भी मालकिन हैं। हालांकि वार्षिक संपत्ति विवरण में डीजीपी ने 470 ग्राम सोना और हीरे के सेट को शादी के समय पत्नी को मिला बताया है। डीजीपी के नाम से गुरुग्राम में एक फ्लैट, दो करोड़ तीन लाख का एक भूखंड और उनकी पत्नी का दिल्ली के द्वारका में एक करोड़ का एक फ्लैट है। नोएडा में 25 लाख का एक व्यावसायिक भूखंड तथा गुरुग्राम में एक व्यावसायिक भूखंड है। सिंघल ने बैंक से एक करोड़ 36 लाख का कर्ज ले रखा है।

90 लाख के कर्जदार हैं प्रत्यय अमृत  

स्वास्थ्य एवं पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत के पास मात्र 12 हजार रुपये की नकदी है, जबकि 14 लाख रुपये से अधिक विभिन्न बैंकों में जमा हैं। ये प्रति वर्ष बीमा कंपनी को 17,840 रुपये का प्रीमियम भुगतान करते हैं। इनके पास मारुति स्टीम कार है। इनके पास 15 ग्राम सोना है, जबकि इनकी पत्नी के पास 920 ग्राम सोना व तीन किलोग्राम चांदी है। इसके अलावा गुरुग्राम और नोएडा में एक-एक फ्लैट है। इन पर हाउसिंग लोन के रूप में 16.64 लाख रुपये बकाया हैं, जबकि शिक्षा ऋण के रूप में 74.74 लाख रुपये बकाया है। 

संजय कुमार के पास कोई मोटरगाड़ी नहीं 

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार के पास कोई मोटरगाड़ी नहीं है। इनके पास बांड या पॉलिसी भी नहीं है। बैंक खातों में 62 लाख और पत्नी के खातों में 4 लाख रुपये नकद है। पत्नी के खाते में 70 लाख (60 लाख स्व. पिता की बचत) की एफडी, जबकि इनके खाते में चार लाख फिक्स डिपोजिट है। इनका परिवार गहनों का शौकीन है। पत्नी, खुद और बेटे के पास मिलाकर करीब 1600 ग्राम के जेवरात पास हैं, वैसे ये सभी 16 साल पुराने हैं। इनके पास पटना के आनंदपुरी में तीन कट्ठे का आवासीय भवन भाई के साथ संयुक्त है। गाजियाबाद में 44 लाख मूल्य का एक फ्लैट, रांची के आईएएस कोऑपरेटिव में दो प्लॉट, पैतृक गांव रोहतास जिले के लहेरी मौजा में 12 बीघा खेती योग्य जमीन है। 

सीएम के सचिव के पास कोई वाहन नहीं 

मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार के हाथ में 10 हजार रुपये नकद है। वहीं एसबीआई के बचत खाते में 2.62 लाख है। 10 लाख पीपीएफ में हैं। इनके पास कोई वाहन नहीं है। उत्तर प्रदेश के उन्नाव में 2.76 एकड़ खेती की जमीन है, जो विरासत में मिली है और परिवार के साझे में है। बेंगलुरू में एक फ्लैट है, जो पति-पत्नी के साझा नाम पर है। इसकी कीमत 91 लाख है। इन्होंने 72.80 लाख का लोन भी ले रखा है। करीब 50 ग्राम सोना और 20 ग्राम चांदी इनके पास है। 

असंगबा चुबा के पास कहीं कोई मकान नहीं 

शिक्षा विभाग के सचिव असंगबा चुबा आओ के पास अपने नाम पर न तो कहीं कोई जमीन है और न ही कोई मकान। कोई निजी गाड़ी भी नहीं है। पत्नी के नाम पर भी कोई मकान नहीं है। अलवत्ता पत्नी श्रीमती माओसेनला के नाम नागालैंड के माओवा गांव में जमीन है, जिसकी कीमत साढ़े चार लाख रुपये है। सात लाख मूल्य की एक 2019 मॉडल की एक्सयूवी भी शिक्षा सचिव के पत्नी के नाम है। खुद के पास 15 ग्राम सोना, पत्नी के पास 50 ग्राम सोना है। दोनों को मिलाकर कीमत 3.10 लाख है। इनके ऊपर भवन निर्माण विभाग का बकाया भी है, जिसके खिलाफ अपील में गए हुए हैं। 

पिस्टल के शौकीन हैं पंकज कुमार पाल

ग्रामीण कार्य विभाग के सचिव पंकज कुमार पाल 50 हजार नकदी रखे हुए हैं। दो बैंकों में 25 लाख जमा है। छह लाख का 135 ग्राम सोना और एक हीरे की अंगुठी है, जिसकी कीमत 60 हजार है। सेकेंड हैंड सोफा सेट खरीदने वाले पंकज पाल एक पिस्टल भी रखे हुए हैं। इसकी कीमत 50 हजार है। पिता से फोन गिफ्ट में मिला है। झांसी में खेती योग्य 13 एकड़ जमीन है, जिसमें आधा हिस्सा है। नोएडा में 332 वर्गमीटर में फ्लैट है, जिसकी कीमत अभी एक करोड़ से अधिक है। 20 लाख का हाउसिंग लोन भी है।

संदीप के संयुक्त परिवार के नाम पर 75 एकड़ जमीन 

श्रम संसाधन के सचिव संदीप कुमार आर. पुडकलकट्टी के पास 10 हजार रुपये नकद है। विभिन्न बैंकों व बांड में 27 लाख से अधिक जमा हैं। 115 ग्राम सोना है, जिसकी कीमत तीन लाख 10 हजार रुपये है। इनके पास कर्नाटक में संयुक्त परिवार के नाम पर 75 एकड़ जमीन है, जिसका बाजार मूल्य 49 लाख रुपये है। फतुहा में चार कट्ठे की जमीन है, जिसकी कीमत 17 लाख रुपये है, हालांकि इसकी अब तक रजिस्ट्री नहीं हो सकी है। इनके पास नोएडा में एक फ्लैट है, जिसकी कीमत 50 लाख रुपये है। 

बैंक में 34 लाख जमा, लेकिन 22 लाख है कर्ज 

भवन निर्माण विभाग के सचिव कुमार रवि के पास मात्र 18 हजार रुपये नकद है, जबकि विभिन्न बैंकों में 34 लाख रुपये जमा हैं। इनके पास कोई भी वाहन नहीं है। वहीं, ये 40 ग्राम सोने के मालिक हैं। इनके पास नालंदा के अस्थावां में पैतृक खेती योग्य जमीन है। इनके ऊपर वित्तीय संस्थाओं का 22 लाख 63 हजार रुपये बकाया है। 

प्लेटिनम व हीरा की शौकीन हैं रंजीता 

बिहार की श्रमायुक्त रंजीता के पास 20 हजार रुपये नकद है। इनके पास विभिन्न बैंकों में 65 लाख रुपये से अधिक जमा हैं। ये प्रति वर्ष एक लाख रुपये एलआईसी को प्रीमियम देती हैं। इनके पास 125 ग्राम सोने के आभूषण हैं। इनके पास ढाई लाख का प्लेटिनम व हीरा है। इनके नाम पर कोई भी वाहन नहीं है। 

जितेंद्र गंगवार के बैंक खातों में 70 हजार  

पुलिस मुख्यालय के एडीजी जितेंद्र सिंह गंगवार के पास दानापुर में 3500 वर्गफीट और लखनऊ के जानकीपुरम में प्लॉट है। वहीं गुरुग्राम में 1565 वर्गफीट का आवासीय फ्लैट और हरियाणा के फरीदाबाद में 1575 वर्गफीट का निर्माणधीन फ्लैट है। इसमें उनकी पत्नी की भी हिस्सेदार हैं। गंगवार व उनकी पत्नी के पास कोई कार नहीं। उनके बैंक खातों में 70 हजार रुपये हैं। शेयर बाजार व एलआईसी में भी निवेश है। 100 ग्राम सोना, जबकि 50 हजार के हीरे आभूषण के रूप में हैं। 

एके अंबेडकर के पास साढ़े तीन लाख की गांव में कृषि भूमि

बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस के डीजी एके अंबेडकर के पास कोई फ्लैट या घर नहीं है। उनके पास साढ़े तीन लाख की गांव में कृषि भूमि है। इसके अलावा पत्नी के नाम पर भोपाल में एक हजार वर्गफीट का फ्लैट और पटना की जगतविहार कॉलोनी में 5800 वर्गफीट का घर है। उन पर 30 लाख रुपये का कर्ज भी है। इसके अलावा खाते में 17,050 रुपये हैं। बांड व शेयर में 27 हजार, जबकि पत्नी का 47 हजार का निवेश है। खुद के पास कार नहीं है, लेकिन पत्नी के पास वैगनआर कार है।

शोभा ओहतकर का करीब 50 लाख म्यूचुअल फंड में निवेश

बिहार अग्निशमन सेवा एवं होमगार्ड की डीजी शोभा ओहतकर ने करीब 50 लाख रुपये म्यूचुअल फंड में निवेश किए हैं। इसके अलावा सात लाख के शेयर भी हैं। पुणे में 2000 वर्गफीट में मकान है, जो एसबीआई से कर्ज लेकर बनाया गया है। इसकी कीमत करीब एक करोड़ 75 लाख रुपये है। इसके अलावा पटना के आशियानगर में पिता द्वारा उपहार में मिला 900 वर्गफीट का फ्लैट है। आभूषण के नाम पर 110 ग्राम श्रीधन है। स्विफ्ट डिजाइयर कार भी है, जो कर्ज लेकर खरीदी गई है।

Leave a Reply