शराबबंदी कानून की आड़ में पुलिसिया हरकतों के खिलाफ अब सत्ताधारी पार्टियों के विधायकों का भी आक्रोश सामने आने लगा है। बीजेपी के एक विधायक ने कहा कि बिहार में जो शराबबंदी लागू करने वाला है वही शराब बिकवा रहा है। पुलिस महिलाओं के कमरे में घुस रही है और इंजीनियर युवकों को आतंकवादियों की तरह पकड़ा जा रहा है। समय आ गया है कि इस कानून को वापस ले लेना चाहिये।

बीजेपी विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल का हमला

बीजेपी के विधायक हैं हरिभूषण ठाकुर बचौल. मीडिया से बात करते हुए बचौल ने आज कहा कि बिहार में जो शराबबंदी लागू करने वाला है वही शराब बिकवा रहा है. शराब बंद होना बहुत अच्छा है. लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है. शराबबंदी के नाम पर पुलिस जो कर रही है वह बेहद गलत है. सैकड़ों ऐसे जगह पर छापेमारी हुई जहां कुछ नहीं मिला. महिलाओं के कमरे में पुलिस घुस रही है. मेडिकल औऱ इंजीनियरिंग के छात्रों को ऐसे पक़ड़ा जा रहा है जैसे वह आतंकवादी हैं।

कृषि कानून की तरह वापस लीजिये शराबबंदी

बीजेपी विधायक ने कहा कि ऐसी घटनाओं से बिहार की छवि खराब हो रही है. पुलिस जो कर रही है उससे देश भर में बिहार की बदनामी हो रही है. यही पुलिस तो बिहार में शराब बिकवा रही है. शराब पुलिस की कमाई का जरिया बन गया है. शराब बिकवाने वाले बड़े बड़े माफियाओं को पकडा नहीं जा रहा है. बचौल ने कहा कि वे मानते हैं कि शराबबंदी बहुत अच्छा काम है लेकिन नरेंद्र मोदी को भी अच्छे नियत से लाये गये अपने कृषि कानून को वापस लेना पड़ा. इसलिए नीतीश कुमार को भी शराबबंदी कानून को उसी तरह वापस ले लेना चाहिये।

Leave a Reply