पटना के चौक थाना क्षेत्र के कच्ची घाट स्थित चमड़ोरिया के पास शीशा कारोबारी राजू जायसवाल की उसी के कारखाने में गर्दन काट हत्या करने वाले आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार आरोपित अभिषेक कुमार नुनु थाना क्षेत के कच्ची घाट स्थित चमड़ोरिया का रहने वाला है और मृतक राजू जायसवाल के कारखाने से महज दो सौ मीटर की दूरी पर उसका घर है.

एसएसपी ने बताया कि अभिषेक आर्मी व पारा मिलिट्री की तैयारी करता है और आर्मी में नौकरी के नाम पर किसी को पैसा देना था. पैसे का जुगाड़ करने के लिए ही शीशा कारोबारी का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी और उन्ही के फोन से कारोबारी की पत्नी को फोन कर फिरौती भी मांगने लगा. मालूम हो कि पिछले साल 30 सितंबर को पटना सिटी के चमड़ोरिया मोड़ के पास शीशा कारोबारी राजू जायसवाल की उन्ही के कारखाने में हत्या कर दी गयी थी.

खून से सने चाकू पर लगे फिंगरप्रिंट ने खोला राज

पुलिस घटना के बाद जब मौके पर पहुंची तो चारों ओर खून पसरा हुआ था. मृतक के शरीर के अलावा कई जगहों पर फिंगरप्रिंट मिले. पुलिस ने सभी फिंगरप्रिंट की फॉरेसिक टीम से जांच करवायी. घटना के बाद तत्कालीन एसएसपी उपेद्र कुमार शर्मा भी मौके पर पहुंचे थे. इस ब्लाइंड केस के लिए एसपी के नेतृत्व में एक विशेष टीम का गठन कर जांच शुरू कर दी. इसके अलावे तकनीकी व सेल की टीम को भी लगाया गया.

तकनीकी जांच में पता चला कि हत्यारा कोई पास का ही है और पुलिस ने कार्रवाई करते हुए तीन संदिग्धों को उठा लिया. इसी में फिंगरप्रिंट जांच के दौरान हिरासत में लिये गये अभिषेक का फिंगरप्रिंट मैच कर गया, जिसके बाद उसने अपना जुर्म कबूल करते हुए पूरा घटनाक्रम बताया. दरअसल इस पूरे घटनाक्रम के बारे में पुलिस को अपराधी अभिषेक ने बताया कि उसे पैसों की सख्त जरुरत थी. लेकिन पैसे का जुगाड़ नही़ हो पा रहा था.

Leave a Reply