बिहार के हाजीपुर में एक महिला डॉक्टर ने अपने डॉक्टर पति पर गंभीर आरोप लगाए हैं। महिला ने इस मामले में पुलिस स्टेशन में केस भी दर्ज कराया है। महिला डॉक्टर ने अपने पति पर शादी का झांसा देकर यौन शोषण करने, दबाव डालने पर शादी करने, गर्भवती होने पर बुरी तरह पिटाई करके गर्भपात कराने और गाली-गलौच देकर छोड़ने का आरोप लगाया है। 

यह मामला हाजीपुर जिले के नगर थाना क्षेत्र का है। आरोपी डॉक्टर का नाम विनोद है। इससे पहले भी उनके खिलाफ दो प्राथमिकी दर्ज है। एक अपहरण करने और दूसरी दहेज के लिए शादी करने की। अब उनके खिलाफ तीसरा केस भी जर्ज हो गया है। महिला मे अपने पति डॉक्टर विनोद कुमार, सिटी हॉस्पिटल की नर्स सुनीता उर्फ मीता और आठ-दस अज्ञात को आरोपी बनाया है।

जानकारी के अनुसार महिला डॉक्टर की डॉ. विनोद कुमार से 10 जून 2021 को शादी हुई थी। महिला का आरोप है कि पहले शादी का झांसा देकर डॉ. ने उसका यौन शोषण किया। इसके बाद वे अपनी बात से मुकर गए। काफी दबाव बनाने पर उन्होंने शादी तो कर ली लेकिन इसके बाद व्यवहार पूरी तरह बदल गया। उन्होंने मारपीट शुरू कर दी। गर्भवती होने पर जबरन गर्भपात करवा दिया। इसके बाद गाली-गलौच करके घर से बाहर निकाल दिया।

बता दें कि डॉ. विनोद कुमार पर जिस महिला डॉक्टर ने प्राथमिकी दर्ज कराई है, उन्हीं की मां ने 9 जून 2021 को अपनी बेटी के अपहरण का केस दर्ज कराया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि डॉक्टर विनोद पहले से शादीशुदा हैं। उनके दो बच्चे हैं। डॉ. विनोद पर इससे पहले उनकी पहली पत्नी ने भी प्राथमिकी दर्ज कराई थी। उनका आरोप था कि वे उन्हें दहेज के लिए प्रताड़ित करते थे। इसी चक्कर में उन्होंने महिला चि‍कित्‍सक से शादी कर ली। तीन केस दर्ज होने के बाद डॉ. विनोद की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

होली को देखते हुए पटना, मुजफ्फरपुर और हाजीपुर में 24 घंटे ड्रोन से शराबियों की निगरानी होगी। रात के समय भी इन जगहों पर ड्रोन टोह लेंगे। उत्पाद विभाग ने विशेष सख्ती बरतने के निर्देश दिए हैं। तीनों जिलों में अवर निरीक्षक और निरीक्षक समेत मद्य निषेध विभाग के 21 अफसरों की तैनाती की गई है। इनमें मुजफ्फरपुर में 10, पटना में सात और वैशाली में चार अतिरिक्त कर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। 

ये सभी पदाधिकारी व कर्मी 23 मार्च तक इन जिलों में प्रतिनियुक्त रहेंगे। पटना, मुजफ्फरपुर और वैशाली जिले को शराबबंदी को लेकर ज्यादा संवेदनशील माना गया है। इसके अलावा अन्य जिलों में भी छापेमारी व गिरफ्तारी अभियान तेज करने का निर्देश दिया गया है।

उत्पाद विभाग के उपायुक्त कृष्णा कुमार ने बताया कि पटना, मुजफ्फरपुर और हाजीपुर के उत्पाद अधिकारियों को ऐसे इलाकों को चिन्हित करने को कहा गया है, जहां शराब के अवैध कारोबार के मामले लगातार पकड़े जा रहे हैं। शराब के लिए बदनाम इन इलाकों के ऊपर खास तौर पर दिन-रात ड्रोन कैमरे की मदद से निगरानी की जाएगी।

Input

Leave a Reply