बिहार के उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग के अपर मुख्य सचिव का पदभार संभालते ही केके पाठक फुल फॉर्म में नज़र आ रहे हैं. खासतौर पर शराब की होम डिलिवरी रोकने के लिए उन्होंने वर्क प्लान बनाने की बात कही है. उन्होंने कहा है कि उसी वर्क प्लान के हिसाब से कार्रवाई की जायेगी.

दरअसल, उत्पाद व निबंधन विभाग के अपर मुख्य सचिव मद्य निषेध केके पाठक की अध्यक्षता मे शराबबंदी कानून और नयी उत्पाद नीति के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए पटना समाहरणालय सभागार में बैठक आयोजित की गई थी. बैठक में मुख्य रुप से होम डिलीवरी को शत-प्रतिशत रोकने का निर्दश अपर मुख्य सचिव ने दिया और जल्द से जल्द वर्क प्लान तैयार करने को कहा है.

उन्होंने शराब की जब्ती और विनष्टीकरण, वाहन की जब्ती और नीलामी, कॉल सेंटर से प्राप्त शिकायतपर त्वरित कार्रवाई आदि बिंदुओं पर भी समीक्षा की. बैठक मे प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल, रेंज आइजी संजय सिंह, उत्पाद आयुक बी कार्तिकेय धनजी आदि उपस्थित थे.

गौरतलब है कि पुलिस पर कई कार्य की जिम्मेदारी है. इसमें शराब की बरामदगी, शराब तस्कर को पकड़ने की जिम्मेदारी भी शामिल है. शराब को लेकर पूरे थाने का सिस्टम व्यस्त रहता है और अन्य कार्य में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इसके लिए ऐसी व्यवस्था किये जाने पर विचार किया जा रहा है, जो थाना पुलिस के शराब को लेकर की जाने वाली कार्रवाई का बोझ कम कर सके.

Leave a Reply