के युवा कपड़ा व्यवसायी मो.तैयब की गत 23 अक्तूबर की रात करीब आठ बजे शेरघाटी के सोनारटोली मुहल्ले में सरेराह हुई हत्या के घंटे-भर बाद ही एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था, जिसमें दिख रहा था कि सड़क पर पड़े व्यापारी के शव के पास पीले सूट में खड़ी एक महिला व्यापारी के सीने में दिख रहे गोलियों के निशान और उसमें से रिसते खून की तस्वीरें उतार रही है। 

यह महिला और कोई नहीं बल्कि उसकी पत्नी और दो नन्हें बच्चों की मां अफशां परवीन थी। इस हत्याकांड को जहां पर अंजाम दिया गया था, वहां से दो कदम की दूरी पर ही मृतक का किराए का घर था। जाहिर है कि इस कांड की खबर सबसे पहले उसकी पत्नी को ही मिली थी। 

हत्या जैसी घटना के तुरंत बाद मृतक की पत्नी के द्वारा खामोशी के साथ सहज भाव से हादसे का वीडियो बनाना किसी को पचा नहीं था। मृतक के भाई-बहनों को तो एकदम नहीं। मृतक के भाई शहादत ने पहले ही दिन शेरघाटी थाने में पुलिस अधिकारियों से इस वायरल वीडियो की चर्चा करते हुए कहा था कि किसी न किसी रूप में उसकी पत्नी भी हत्याकांड में शामिल है। 

वायरल वीडियो में ही छिपे थे सबूत

हत्याकांड के 41 दिनों के बाद शनिवार को जब पुलिस की तफ्तीश में खुलासा हुआ कि मृतक की पत्नी ने ही अपने एक आशिक के साथ बाकी की उम्र गुजारने के लिए राह का रोड़ा बने पति को मरवा दिया तो कत्ल के शिकार हुए तैयब के भाई-बहनों को हैरानी नहीं हुई। तैयब की बहन स्वीटी कहती है कि उसके घर वालों को पहले दिन से ही शक था कि उसकी पत्नी का ही भाई की हत्या में हाथ है। कत्ल के दिन वायरल हुए वीडियो में ही छिपे थे अनुसंधान के सूत्र।

Leave a Reply