औरंगाबाद में वर्षो बाद एक बार फिर नक्सलियों ने अपनी धमक का एहसास कराया है. सोमवार की रात अति नक्सल प्रभावित मदनपुर थाना क्षेत्र के दक्षिणी उमंगा पंचायत के जुडाही स्थित सरकारी पंचायत भवन को प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादियों के हथियार बंद दस्ते ने सिलेंडर बम लगाकर उड़ा दिया.वहीं मोबाइल टावर में आग लगाकर मशीन को भी जला दिया.

घटनास्थल तक पहुंचने वाले रास्तों पर कील लगा दी है, ताकि पुलिस व अन्य वाहनों का मौके पर पहुंचना मुश्किल हो जाए. इधर सिलेंडर विस्फोट के दौरान निर्माणाधीन नल जल योजना की टंकी भी क्षतिग्रस्त हो गई. मिली जानकारी के अनुसार 60से 65 की संख्या में नक्सली नहर पार कर जुड़ाही गांव पहुंचे थे. सबसे पहले चार से पांच ग्रामीणों को उन लोगों ने अगवा किया और धमकी के साथ नहर पार ले गए.

नक्सलियों ने कुछ लोगों के साथ मारपीट भी की और उन्हें स्पष्ट चेतावनी दी कि वे चुपचाप अपने घर चले जाएं. लगभग आधे घंटे तक नक्सलियों ने गांव में घूम- घूमकर पोस्टर चिपकाया. जब दहशत से तमाम ग्रामीण अपने-अपने घरों में घुस गए तो नक्सलियों ने सबसे पहले सिलेंडर बम लगाकर पंचायत सरकार भवन को उड़ा दिया.

पंचायत भवन उड़ाने के बाद नक्सली वहां लगे टावर के गार्ड को खोजने लगे. जब गार्ड घर से नहीं निकला तो टावर को भी आग के हवाले कर दिया. अंततः नक्सली लाल सलाम जिंदाबाद, जो हमसे टकराएगा वह चूर चूर हो जाएगा सहित अन्य नारों के साथ निकल पड़े.


इधर पता चला कि घटना के कई घंटे बाद पुलिस जुड़ाही गांव पहुंची लेकिन तब तक नक्सली फरार हो चुके थे. हालांकि पुलिस को शंका थी कि नक्सलियों ने रास्तों पर आईडी लगाया हो. उधर नक्सलियों की इस जुड़ाही सहित आसपास के गांव में दहशत का माहौल है.

Leave a Reply