क्या बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राज्यसभा जाएंगे? दरअसल राज्य में भाजपा के साथ गठबंधन की सरकार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कहना है कि वह किसी दिन राज्यसभा जाना चाहेंगे।

नीतीश अगर राज्यसभा जाते हैं को वे बिहार के अन्य दो दिग्गज नेता यानी लालू प्रसाद यादव और सुशील कुमार मोदी की बराबरी कर लेंगे। ये दोनों नेता संसद और विधानसभा के सभी सदनों के सदस्य रहे हैं।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार सुबह, नीतीश कुमार ने बिहार विधानसभा में अपने कार्यालय में संवाददाताओं से कहा कि वह किसी भी समय राज्यसभा के सदस्य बनना चाहते हैं। वह अब तक बिहार विधानसभा, विधान परिषद और लोकसभा के सदस्य रह चुके हैं।

पत्रकारों के साथ एक अनौपचारिक बातचीत में की गई टिप्पणी ने बड़ी अटकलों को हवा दे दी। अटकलें हैं कि 16 साल से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, एक नई भूमिका के लिए इच्छुक हैं। चर्चाएं तो यहां तक हैं कि उन्हें उपराष्ट्रपति बनाया जा सकता है। उपराष्ट्रपति का पद अगले कुछ दिनों में खाली होने वाला है।

बुधवार को नीतीश कुमार से पूछा गया था कि क्या वह नालंदा से सांसदी का चुनाव लड़ने की दौड़ में हैं। इस पर उन्होंने कहा, “बिल्कुल नहीं।” वे खत्म की जा चुकी बाढ़ (Barh) लोकसभा क्षेत्र का दौरा कर रहे हैं, जहां उन्होंने पांच बार जीत हासिल की थी। बाढ़ के प्रमुख हिस्से अब नालंदा में हैं। 

लेकिन यह पूछे जाने पर कि क्या वह राज्यसभा के सदस्य बनना चाहेंगे, उन्होंने कहा: “मुझे राज्यसभा जाने में कोई दिक्कत नहीं होगी, लेकिन अभी के लिए, मेरे पास मुख्यमंत्री की जिम्मेदारियां हैं। मैं 16 साल से अधिक समय तक मुख्यमंत्री रहा हूं, तो मुझे नहीं पता…।”

नीतीश कुमार की इच्छा की राजनीतिक हलकों में अलग-अलग तरह से व्याख्या की जा रही है। बिहार एनडीए (भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) के नेताओं के एक वर्ग का मानना है कि या तो उन्हें दिल्ली में एक प्रतिष्ठित जिम्मेदारी के बारे में बताया गया है या उन्होंने भाजपा नेतृत्व को एक आइडिया दिया है जिस पर वह विचार करने को तैयार हैं। 

बुधवार को नीतीश कुमार से पूछा गया था कि क्या वह नालंदा से सांसदी का चुनाव लड़ने की दौड़ में हैं। इस पर उन्होंने कहा, “बिल्कुल नहीं।” वे खत्म की जा चुकी बाढ़ (Barh) लोकसभा क्षेत्र का दौरा कर रहे हैं, जहां उन्होंने पांच बार जीत हासिल की थी। बाढ़ के प्रमुख हिस्से अब नालंदा में हैं।

लेकिन यह पूछे जाने पर कि क्या वह राज्यसभा के सदस्य बनना चाहेंगे, उन्होंने कहा: “मुझे राज्यसभा जाने में कोई दिक्कत नहीं होगी, लेकिन अभी के लिए, मेरे पास मुख्यमंत्री की जिम्मेदारियां हैं। मैं 16 साल से अधिक समय तक मुख्यमंत्री रहा हूं, तो मुझे नहीं पता…।”

बिहार बोर्ड 10वीं रिजल्ट, सबसे पहले… सबसे तेज, चेक कीजिए Direct इस Link से

नीतीश कुमार की इच्छा की राजनीतिक हलकों में अलग-अलग तरह से व्याख्या की जा रही है। बिहार एनडीए (भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) के नेताओं के एक वर्ग का मानना है कि या तो उन्हें दिल्ली में एक प्रतिष्ठित जिम्मेदारी के बारे में बताया गया है या उन्होंने भाजपा नेतृत्व को एक आइडिया दिया है जिस पर वह विचार करने को तैयार हैं।

सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के टेलीग्राम चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के ट्विटर हैंडल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.

Leave a Reply