पटना की पुलिस कॉलोनी में गुरुवार की दोपहर तलाकशुदा पत्नी व बेटी को गोली मारने के बाद बेगूसराय के राजीव ने खुद को भी गोली मार ली। हत्या के कारणों के संबंध में बताया गया कि राजीव की शादी वर्ष 2005 में प्रियंका की बड़ी बहन प्रिया भारती से हुई थी। शादी के एक साल बाद 2006 में बेटी सारा को जन्म देने के कुछ ही देर बाद प्रिया की मौत हो गई। इसके बाद सारा की परवरिश उसकी मौसी प्रियंका भारती व नानी शशि करने लगीं। 

राजीव के गांव बेगूसराय के भगतपुर के लोगों व गर्दनीबाग थाना प्रभारी रंजीत कुमार रजक के अनुसार, पहली पत्नी की मौत के बाद राजीव ने वर्ष 2008 में साली प्रियंका से शादी कर ली थी, लेकिन दोनों के बीच में संबंध अच्छे नहीं रहे। इसके चलते बाद में तलाक हो गया था। सारा राजीव की पहली पत्नी प्रिया की बेटी थी। कई बार जिद करने के बावजूद सारा अपने पिता के साथ रहने को राजी नहीं थी। जबकि राजीव बेटी से बेहद लगाव रखता था। 

पुलिस इसी को वारदात की मुख्य वजह मानते हुए मामले की जांच कर रही है। इस मामले में गर्दनीबाग पुलिस ने मृतक राजीव के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया है। घटना के बाद राजीव की सास शशि बदहवास थीं। पुलिस कॉलोनी में ज्यादातर आईपीएस अफसरों व पुलिसकर्मियों के ही मकान हैं, जहां गुरुवार को हुए खूनी खेल से सभी दहल उठे।

मानसिक विकृति का परिणाम है यह घटना

रिटायर आईजी जेएन शर्मा का कहना था कि यह घटना पूरी तरह से मानसिक विकृति का परिणाम है। राजीव ने जिस तरह से इस घटना को अंजाम दिया, उसके बारे में किसी ने कुछ सोचा भी नहीं रहा होगा। अकेलापन, मानसिक अवसाद से जूझने पर पहले भी कई लोग इस तरह की घटना को अंजाम दे चुके हैं। ऐसी घटनाओं को रोक पाना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती है क्योंकि किसके मन में क्या है और कौन गली-मोहल्ले में पिस्टल लेकर टहल रहा है, यह पता कर पाना पुलिस के लिए मुश्किल होता है।

…तो बच सकती थी बेटी सारा की जान

पुलिस कॉलोनी में रहनेवाले रिटायर आईजी जेएन शर्मा ने कहा कि राजीव को पता था कि प्रियंका, बेटी सारा और सास शादी समारोह से लौट रहीं हैं। इसलिए वह पहले से ही घात लगाकर कॉलोनी में खड़ा था। उसकी मंशा से प्रियंका समेत अन्य अनजान थे। गली में मुड़ते ही राजीव बेटी सारा के पास पहुंचा लेकिन बेटी भाग नहीं पाई। लोगों का कहना था कि यदि बेटी भाग गई होती तो शायद उसकी जान बच सकती थी।

वेश बदलकर कई बार राजीव ने किया था हंगामा

अनीसाबाद स्थित पुलिस कॉलोनी में जिस मकान में प्रियंका रहती थी, उस मकान में वेश बदलकर राजीव कई बार घुसकर हंगामा कर चुका था। मकान मालिक व रिटायर आईजी जेएन शर्मा ने बताया कि करीब छह माह पूर्व राजीव वेश बदलकर मेरे घर में घुसा और प्रियंका के कमरे में जाकर हंगामा व मारपीट करने लगा। वह बेटी सारा को अपने साथ ले जाने की जिद करने लगा। यह देख बेटी सारा भागकर मेरे पास आई और बताया कि पापा मारपीट कर रहे हैं। मैं उनके साथ कतई नहीं जाना चाहती। इस पर उन्होंने बीच-बचाव कर राजीव को अपने घर से भगाया। कई बार राजीव ऐसा कर चुका था।

एक साथ तीन की मौत से भगतपुर में पसरा मातम

Leave a Reply