जिले के नगर थाना क्षेत्र के थावे रोड की रहने वाली एक युवती डेटॉल गटक गई. हालत बिगड़ने पर युवती को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों की टीम उसकी जान बचाने में जुटी हुई है. डेटॉल पीने से युवती की हालत लगातार बिगड़ने लगी जिसके बाद परिजनों ने उसे आनन-फानन में सदर अस्पताल में लाया. यहां इमरजेंसी वार्ड में उसे भर्ती कराया गया.

इस मामले में परिजनों का कहना है कि उनकी बेटी को मोबाइल की लत लग गई है. वो पढ़ाई करने से ज्यादा मोबाइल इस्तेमाल करती है जिसे कई बार मना भी किया गया. बार-बार मना करने के बाद भी उसे फर्क नहीं पड़ता था. इससे नाराज होकर युवती के माता-पिता ने बेटी को कड़ी फटकार लगाई जिसके बाद वह डेटॉल पी गई. घर में टाइल्स की सफाई के लिए डेटॉल रखा हुआ था. पीने के बाद उसकी हालत बिगड़ने लगी. यह देख परिजन घबरा गए. जब कुछ समझ नहीं आया तो वे अपनी बेटी को लेकर सदर अस्पताल पहुंचे.

सकी जानकारी मिलते ही स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक इरशाद आलम समेत अन्य डॉक्टर इमरजेंसी वार्ड में पहुंचे और युवती का इलाज करना शुरू किया. बता दें कि इसके पहले मांझा और थावे थाना क्षेत्र में मां-बाप की फटकार से एक किशोरी और एक युवक ने कीटनाशक दवा खा लिया था. सदर अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि मोबाइल छात्रों के करियर के साथ-साथ उनकी मानसिक हालत भी बिगाड़ रहा है. अभिभावकों की जरा सी डांट-फटकार पर घातक कदम उठा रहे हैं, जो बेहद खतरनाक हैं. इस तरह की हरकत नहीं करनी चाहिए.

Leave a Reply