मार्च में अधिकतम तापमान ने 11 वर्षों का रिकार्ड तोड़ डाला। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, गुरुवार को प्रदेश में पटना सबसे गर्म रहा, यहां का अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री ज्यादा 39.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राजधानी का न्यूनतम तापमान 18.6 डिग्री दर्ज किया है। इससे पहले 25 मार्च 2011 को अधिकतम तापमान 37.5 डिग्री दर्ज किया गया था। हालांकि, मार्च महीने की बात करें तो सबसे ज्यादा तापमान 2010 में 41.4 डिग्री तक पहुंचा था।  प्रदेश में सबसे कम तापमान गया का 16.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पटना में न्यूनतम तापमान वर्ष 1979 के 10 मार्च को 8.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। प्रदेश में पछुआ की गति 6-8 किमी प्रति घंटा बनी हैै। 

अप्रैल में हल्की बारिश के आसार

मौसम विज्ञानी के अनुसार, पछुआ के प्रभाव से प्रदेश में अगले चार-पांच दिनों तक मौसम शुष्क बने होने के साथ आसमान मुख्य रूप से साफ रहेगा। वहीं, तापमान में सामान्य से दो से चार डिग्री की वृद्धि के आसार हैं। अप्रैल में तापमान में वृद्धि होने के साथ प्रदेश में हल्की बारिश का भी पूर्वानुमान है। 

मार्च में पटना का अधिकतम तापमान 

2010 (27 मार्च) –  41.4 

2011 (25)           37.5

2012 (28)           38.9

2013 (25)           36.0 

-2014(29)           38.0 

-2015(26)           37.6

-2016(20)           37.7

-2017(25)           37.8 

-2018(25 )          38.0

 -2019(31)          39.0

-2020 (27)          36.0

Leave a Reply