बिहार के नालंद जिले में एक विचित्र प्रेम कहानी का मामला सामने आया है. एक महिला के पति का कैंसर की बीमारी से निधन हो गया था. इसके बाद वह अपनी मां के साथ एक किराये के मकान में रहने लगी थीं. उनके 3 बच्‍चे भी हैं. अचानक एक दिन रांग नंबर से एक शख्‍स का फोन कॉल आया और फिर दोनों के बीच बातचीत का सिलसिल चल पड़ा. बातचीत का यह सिलसिला कब प्‍यार में बदल गया, यह दोनों को पता नहीं चल सका. दोनों ने साथ रहने की ठान ली और प्रेमी अपने प्रेमिका को लेकर चला गया. अब महिला का आरोप है कि तकरीबन 1 साल तक साथ रहने के बाद उनके प्रेमी ने उन्‍हें छोड़ दिया. उन्‍होंने पुलिस से प्रेमी से मिलने की गुहार लगा है.

जानकारी के अनुसार, अजब प्रेम की गजब कहानी का यह मामला नालंदा जिले के बिहार थाना क्षेत्र के डॉक्टर कॉलोनी का है. महिला डॉक्‍टर कॉलोनी के समीप अपने दो बच्चों के संग महिला अपने प्रेमी को बुलाने के लिए आमलोगों से गुहार लगा रही है. घटना के बारे में अस्थावां थाना निवासी गुड़िया देवी ने बताया कि 1 साल पूर्व मालती गांव निवासी सुनील यादव उनके मांग में सिंदूर भरकर पानीपत लेकर चला गया था. वहां साल भर रखने के बाद 1 सप्ताह पूर्व यह कहक़र पटना लेकर चला आया कि वह घर पर ही रहकर कमाई करेगा. महिला का आरोप है कि पटना आने के बाद सुनील घर से ड्राइविंग लाइसेंस लाने की बात कह करफरार हो गया. एक सप्ताह तक वह अपने 2 बच्चों के साथ पटना स्टेशन पर इंतजार करती रहीं. इसके बाद सोमवार को बिहारशरीफ गईं.

पुलिस को सुनाई आपबीती
महिला ने इसके बाद नगर थाना पहुंचकर पुलिस को आपबीती बताई. थानाध्यक्ष ने अस्थावां थाना इलाके का मामला होने के कारण महिला को वहां जाने का सलाह दी. महिला ने बताया कि 2 साल पहले कैंसर से उनके पति की मौत हो गई थी. पति की मौत के बाद ससुराल वालों ने उन्‍हें घर से निकाल दिया था, जिसके बाद वह अपने बच्चों के संग अस्थावां में किराये के मकान में मां के साथ रहने लगी थीं. इस बीच साल भर पूर्व रांग नंबर से एक फोन कॉल और सुनील से उनकी बातचीत का सिलसिला शुरू हो गया.

Leave a Reply