जिले के बेलवा के पास बागमती नदी पर बन रहे हेड रेगुलेटर लिंक चैनल के माध्यम से 1500 क्यूसेक पानी बागमती नदी की पुरानी धारा में प्रवाहित कराकर बागमती की पुनर्जीवित किया जाएगा। लिंक चैनल के माध्यम से बागमती नदी में बाढ़ के समय पानी के उच्च प्रवाह अवधि में नदी के अतिरिक्त जलश्राव को •बागमती की पुरानी धारा में प्रवाहित बूढ़ी गंडक नदी में प्रवाहित कर • बागमती के तटबंध पर पानी का दबाव कम किया जाएगा। सिंचाई की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी।

यह जानकारी विधान पार्षद मो. फारुख द्वारा विधान परिषद में पूछे गए अल्प सूचित प्रश्न के जवाब में सरकार द्वारा दी गई। उन्होंने विधान परिषद में पूछा कि शिवहर जिले के बेलवा से मुजफ्फरपुर जिले के मीनापुर तक बागमती नदी की पुरानी ‘धारा में गाद हो जाने के कारण पानी का प्रवाह कम रहने से नदी के दोनों तरफ सिंचाई करने में किसानों की परेशानी होती है।

जिसके जवाब में यह जानकारी दी गई। प्रश्न के उत्तर में बताया गया कि शिवहर जिले के बेलवा के पास हेड रेगुलेटर संरचना का निर्माण किया जा रहा है। जिसकी प्रगति 85 प्रतिशत पूरा हो चुका है। इस हेड रेगुलेटर तथा लिंक चैनल के माध्यम से प्रस्तावित बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना फेज पांच के तहत बेलवा-मीनापुर लिंक चैनल जो बागमती की पुरानी धारा है।

केबाएं दाएं दोनों किनारे कुल 1.37 किलोमीटर की लंबाई में निर्माण कराते हुए पुरानी धारा में बागमती नदी का अधिकतम को पुनर्जीवित किया जाना है। इसका विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने की कार्रवाई अंतिम चरण में है। जिसके तहत तकनीकी एवं आवश्यकता अनुसार इस धारा में गाद की समस्या का निराकरण भी किया जाएगा।

Leave a Reply