बरौली थाने के पचपटिया गांव में शनिवार को बेटी की डोली की जगह एक पिता की अर्थी उठानी पड़ी. इस घटना से ना सिर्फ परिवार बल्कि गांव के लोग भी शोक भी डूबे हैं. शनिवार को उन्हें बेटी का तिलक लेकर जाना था. तिलक का सामान लेकर शुक्रवार की रात में पिता और भाई बाइक से घर लौट रहे थे. रास्ते में सिवान-सरफरा पथ पर कहला गांव के पास अज्ञात गाड़ी ने दोनों को टक्कर मार दी. हादसे में बाइक सवार सत्येंद्र मांझी की मौत हो गई, जबकि सोनू मांझी गंभीर रूप से घायल हो गया.

हादसा होने की जानकारी परिजनों को जैसे ही मिली तो कोहराम मच गया. मंगल गीत की जगह मातम और चीत्कार में परिवार डूब गया. पीड़ित परिजनों के अनुसार 20 नवंबर को सीवान तिलक जाना थाना और 25 नवंबर को बेटी की बरात आनी थी. शादी की तैयारी में पूरा परिवार लगा हुआ था.

उधर, पुलिस ने हादसे के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया. वहीं घायल सोनू मांझी का इलाज स्थानीय अस्पताल में कराया गया. पुलिस ने इस मामले में परिजनों के बयान पर अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है.

शादी की तिथि पर संशयसिवान में भी मातम

बेटी की शादी कैसे होगी, इस पर संशय बना है. परिवार के लोग मातम में डूबे हैं तो गांव के लोग गमगीन हैं. कुछ लोगों ने निर्धारित तिथि पर शादी कराने की राय दी, तो कुछ ने फिलहाल शादी टाल देने की बात कही. उधर, सिवान के बासुपाली गांव में भी हादसा होने से लोग मायूस हैं. बासुपाली से ही मोगल बिरैचा पंचायत के पचपटिया गांव में 25 नवंबर को बरात आनी थी.

Leave a Reply