बिहार सरकार ने मंगलवार को कहा कि शीघ्र ही 8853 एएनएम (नर्सों) की नियुक्ति की जाएगी। विधान परिषद में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के संजीव श्याम सिंह के एक अल्पसूचित सवाल के जवाब में कहा कि स्वास्थ्य उपकेंद्र में चिकत्सिक की पदस्थापन नहीं होती है। सभी स्वास्थ्य उपकेंद्रों पर दो-दो एएनएम का पद स्वीकृत है, जिसमें सभी स्वास्थ्य उपकेंद्र पर एक-एक एवं कार्यरत हैं जो कोविड-19 प्रबंधन के साथ टीकाकरण एवं अन्य कार्यों में लगी हुई हैं। 

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि शीघ्र ही राज्य स्वास्थ्य समिति की ओर से 8853 एएनएम की नियुक्ति होने के बाद एएनएम की संख्या बल बढ़ जाएगी। इसके बाद स्वास्थ्य उपकेंद्रों की व्यवस्था में सुधार आ जाएगी। उन्होंने कहा कि नियुक्ति के बाद इतनी बड़ी संख्या में नर्स आ जाएंगी तो स्वास्थ्य उपकेंद्रों में उनकी पदस्थापना की जाएगी।

मंगल पांडेय ने कहा कि स्वास्थ्य उपकेंद्रों में एएनएम की नियुक्ति होती है। एएनएम को टीकाकरण, गर्भनिरोधक सुझाव और दवाइयां स्वास्थ्य उपकेंद्रों में देना होता है। उन्होंने कहा कि प्रावधान के अनुरूप स्वास्थ्य उपकेंद्रों पर चिकित्सकों की नियुक्ति नहीं होती है।

Leave a Reply