पटना प्रमंडल के पांच शहर सासाराम, आरा, बक्सर, बिहारशरीफ और पटना के मुख्य चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। सीसीटीवी कैमरे से सड़क जाम की निगरानी की जाएगी। इन शहरों में सड़क जाम की समस्या से निजात के लिए अधिकारी लोगों से संवाद भी करेंगे। मंगलवार को प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल ने पटना प्रमंडल के सभी डीएम और एसपी के साथ बैठक में यह निर्देश दिया।

आयुक्त ने कहा कि प्रमुख शहरों में यातायात को सुगम बनाने के लिए वन वे सड़कों को चयनित करें। अतिक्रमण एवं जाम की समस्या पर फीडबैक प्राप्त करने के लिए पब्लिक संवाद स्थापित करें। उन्होंने कहा कि छोटे वाहनों के रूट निर्धारित कर संख्या फिक्स करें तथा परमिट व्यवस्था लागू करें, ताकि इस रूट पर वाहनों की संख्या अधिक नहीं हो। 

सड़क पर यातायात को अवरुद्ध करने के कारण विद्युत पोल हटाने तथा रेलवे गुमटी पर आवश्यकतानुसार फ्लाईओवर की कार्ययोजना बनाने को कहा। उन्होंने कहा कि कई जगहों पर अतिक्रमण के कारण सड़क जाम की समस्या हो रही है, इसीलिए ऐसे जगहों को चिह्नित कर अतिक्रमण हटवाएं। 

वाहन चेकिंग के लिए अभियान चलाएं

आयुक्त ने सभी डीएम को अपने जिले में जाम की समस्या दूर करने तथा वाहनों के सुगम परिचालन के लिए सड़क से अतिक्रमण हटाने का निर्देश दिया। इसके लिए विशेष अभियान चलाने तथा टीम गठित करने को कहा। साथ ही सभी डीएम-एसपी को वाहन चेकिंग का सघन अभियान चलाने तथा मोटर वाहन अधिनियम के तहत कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

कंट्रोल रूम द्वारा जाम की होगी निगरानी

उन्होंने कहा कि जाम की समस्या पर कंट्रोल रूम एक्टिव होकर विशेष नजर रखेंगे। जाम की खबर मिलते ही मजिस्ट्रेट एवं पुलिस पदाधिकारी द्वारा त्वरित कार्रवाई करना सुनिश्चित करेंगे। प्रत्येक जिले के कंट्रोल रूम प्रभारियों को निर्देश दिया कि वे शहर की जाम पर नजर रखें तथा उसे हटाने के लिए त्वरित कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि कोरोना के बाद गाइडलाइन में दी गई छूट के बाद सड़क पर वाहनों की संख्या बढ़ गई है। इसीलिए सड़क जाम को गंभीरता से लें।

Leave a Reply