बिहार के सीतामढ़ी जिले से सटे नेपाल के जनकपुर धाम की रौनक इन दिनों काफी बढ़ गई है. धाम पर हर तरफ साधु-संत, महिला-पुरुष व बच्चों समेत बड़ी संख्या में श्रद्धालु नजर आ रहे हैं. सभी भगवान राम और माता सीता की भक्ति में डूबे हुए हैं. दरअसल, साधु-संत के साथ ही सभी श्रद्धालु विवाह पंचमी के अवसर पर जनकपुर धाम पर हर साल होने वाले भगवान राम और माता सीता के विवाह उत्सव में शरीक होने के लिए पहुंचे हैं. पूरे धाम का वातावरण भक्तिमय बना हुआ है. हर तरफ विवाह से जुड़ी गीतों की ही गूंज सुनाई दे रही है. लोगों के बीच सिर्फ और सिर्फ विवाहोत्सव की ही चर्चा है. 

धूमधाम से मनाया जाएगा विवाहोत्सव 

बता दें कि माता सीता के मायके जनकपुर धाम में आयोजित चार दिवसीय विवाहोत्सव के तहत सोमवार को भगवान राम का तिलकोत्सव हुआ. वहीं, मंगलवार को मटकोर का कार्यक्रम हुआ. इसके तहत मंदिर परिसर से साधु-संतों और श्रद्धालुओं द्वारा झांकी निकाली गई. यह झांकी गंगासागर तट तक निकाली गई. इस दौरान विधिवत मिट्टी की पूजा कर मटकोर की रस्म अदा की गई. वहीं, बुधवार को विवाहोत्सव का कार्यक्रम धूमधाम से मनाया जाएगा.

बिहार के सीतामढ़ी जिले से सटे नेपाल के जनकपुर धाम की रौनक इन दिनों काफी बढ़ गई है. धाम पर हर तरफ साधु-संत, महिला-पुरुष व बच्चों समेत बड़ी संख्या में श्रद्धालु नजर आ रहे हैं. सभी भगवान राम और माता सीता की भक्ति में डूबे हुए हैं. दरअसल, साधु-संत के साथ ही सभी श्रद्धालु विवाह पंचमी के अवसर पर जनकपुर धाम पर हर साल होने वाले भगवान राम और माता सीता के विवाह उत्सव में शरीक होने के लिए पहुंचे हैं. पूरे धाम का वातावरण भक्तिमय बना हुआ है. हर तरफ विवाह से जुड़ी गीतों की ही गूंज सुनाई दे रही है. लोगों के बीच सिर्फ और सिर्फ विवाहोत्सव की ही चर्चा है. 

धूमधाम से मनाया जाएगा विवाहोत्सव 

बता दें कि माता सीता के मायके जनकपुर धाम में आयोजित चार दिवसीय विवाहोत्सव के तहत सोमवार को भगवान राम का तिलकोत्सव हुआ. वहीं, मंगलवार को मटकोर का कार्यक्रम हुआ. इसके तहत मंदिर परिसर से साधु-संतों और श्रद्धालुओं द्वारा झांकी निकाली गई. यह झांकी गंगासागर तट तक निकाली गई. इस दौरान विधिवत मिट्टी की पूजा कर मटकोर की रस्म अदा की गई. वहीं, बुधवार को विवाहोत्सव का कार्यक्रम धूमधाम से मनाया जाएगा.