प्यार जब परवान चढ़ता है तो उम्र की सीमा नहीं देखी जाती. बॉलीवुड एक्टर राज बब्बर (Raj Babbar) और अनीता राज की फिल्म ‘प्रेम गीत’ का मशहूर सॉन्ग ‘होंठो से छू लो तुम’ आपने जरूर सुना होगा. इस गाने के लिरिक्स में ‘न उमर की सीमा हो, न जनम का हो बंधन, जब प्यार करे कोई, तो देखे केवल मन’ आता है. कुछ ऐसा ही मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में देखने को मिला. 67 साल की रामकली और 28 साल के भोलू को आपस में प्यार हुआ और अब वह दोनों साथ रहने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.


रामकली और भोलू के उम्र में 39 साल का गैप

रामकली और भोलू लिव इन में रह रहे हैं और अब आगे की जिंदगी भी इसी तरह से बिताना चाहते हैं. इसके लिए उन्होंने ग्वालियर की एक अदालत से बकायदा नोटरी बनवाई है. रामकली और भोलू का कहना है कि दोनों एक दूसरे से प्रेम करते हैं. वो पिछले 6 साल से लिवइन रिलेशन में रह रहे हैं और आगे भी साथ रहना चाहते हैं. दोनों बालिग हैं. लिव इन रिलेशन में रहने के दौरान भविष्य में किसी तरह का विवाद ना हो और उनके रिश्ते को पहले से भी ज्यादा मजबूती मिले, इसके लिए वो अपने रिलेशन की नोटरी करवाई.


वकील ने इस कपल के बारे में दी जानकारी

एडवोकेट दिलीप अवस्थी ने बताया है कि कपल मुरैना जिले के कैलारस का रहने वाला है. 67 साल की रामकली और 28 साल का भोलू एक दूसरे से प्यार करते हैं और एक दूसरे के साथ में रहना चाहते हैं, लेकिन शादी नहीं करना चाहते हैं. लिव इन रिलेशन में रहने के दौरान कोई विवाद ना हो, इसलिए दोनों ने नोटरी कराई है. नोटरी के लिए उन्होंने ग्वालियर के जिला न्यायालय में लिव इन रिलेशन रहने के लिए अपने दस्तावेज पेश किए हैं.

विवादों से बचने के लिए लिव इन रिलेशन की नोटरी

अधिवक्ता संघ के सचिव एडवोकेट दिलीप अवस्थी के अनुसार विवादों से बचने के लिए जोड़े लिव इन रिलेशन की नोटरी तैयार कराते हैं. हालांकि, कानूनी रूप से ऐसे दस्तावेज का कोई औचित्य नहीं होता. कांटेक्ट एक्ट केवल इस्लाम में मान्य होता है. कांटेक्ट हिन्दू विवाह अनुबंध की श्रेणी में नहीं आता है. बहरहाल जो भी हो 67 साल की रामकली की 28 साल के भोलू से प्रेम की कहानी खूब चर्चाओ में आ गयी है.

Leave a Reply