मिथिला के चिंतन में बेटी सिर्फ माता-पिता की ही नहीं, बल्कि समाज की होती है. आधुनिकता के बयार में दबते जा रहे इस चिंतन को टीकापट्टी देकुली के मुखिया श्याम नंदन यादव ने नयी ऊंचाई दी है. बेटी की शादी के लिए कर्ज मांगने पहुंचे लाचार-बेबस पिता की पूरी चिंता ही मिटा दी

बिहार बोर्ड 10वीं रिजल्ट, सबसे पहले… सबसे तेज, चेक कीजिए Direct इस Link से.

कर्ज नहीं देकर मुखिया ने शादी का पूरा खर्च ही उठा लिया. शादी नें कुल 3.25 लाख रुपये खर्च आया. इसे मुखिया श्यामनंदन यादव ने चुकाया. इंसानियत की इस मिसाल की चहुंओर तारीफ हो रही है. गरीब माता-पिता की मूक कृतज्ञता के साथ, पूरा समाज उनके इस कदम को मुक्त कंठ से प्रशंसा कर रहा है.



कर्ज देने से बेहतर हम ही कर देते हैं शादी. शादी कैसे होगी यह चिंता भाग्यनारायण को खाये जा रही थी. पंचायत के मुखिया से वह कर्ज मांगने पहुंच गया. उसकी आर्थिक तंगी देख मुखियाजी ने कहा, ‘कर्ज देने से बेहतर यही होगा कि आपकी बेटी की हम शादी ही करा देते हैं.’ फिर तो पिता को मानो पर लग गये. फिर मुखिया सह प्रखंड मुखिया संघ के अध्यक्ष श्याम नंदन यादव ने बेटी की शादी संपन्न करा दी. 28 मार्च को मुखियाजी के ही दरवाजे पर बाजे-गाजे के साथ धूमधाम से लड़की की शादी हुई. शादी में 70 बराती पहुंचे थे.

समाज के सभी वर्ग के लोगों ने विवाह में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. लड़की की विदाई में फर्नीचर,कपड़ा, बर्तन समेत अन्य सामान दिये गये. शादी में 3.25 लाख खर्च आया, जिसे मुखिया ने खुद वहन किया. कुशोथर के मुखिया बसंत कुमार झा, मेकनावेदा के मुखिया दयाराम मुखिया, नथुनी यादव, प्रिंस कुमार यादव, प्रमोद यादव, कपिल देव पतोर ओपी अध्यक्ष आदि विवाह के साक्षी बने

सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के टेलीग्राम चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के ट्विटर हैंडल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.

Leave a Reply