रतलाम के रत्तागड़खेड़ा गांव में कुछ दिन पहले किसान लाल सिंह ने अपने खेत में जैसे ही ट्यूबवेल स्टॉर्ट किया उसके चिथड़े उड़ गए. जांच के बाद पुलिस ने हत्या के आरोपी को गिरफ्तार किया लेकिन जैसे ही उसने हत्या का कारण बताया सभी चौक गए. यह हत्या उसने पत्नी के साथ गैंगरेप का बदला लेने के लिए की थी.

  • पत्नी से एक साल पहले हुए गैंगरेप का लेना था बदला
  • पहले प्रयास में एक आरोपी को की थी मारने की कोशिश

एमपी के रतलाम जिले में पत्नी के साथ हुए गैंगरेप का पति ने फिल्मी स्टाइल में बदला लेते हुए आरोपी को मौत के घाट उतार दिया. पहले हमले में जब आरोपी नहीं मरा ताे छह महीने बाद फिर से हमला करके अपना ‘बदला’ लिया. मामले का खुलासा होने के बाद पुलिस ने पति को गिरफ्तार कर लिया है जबकि गैंगरेप के बचे अन्य दो आरोपियों को भी पकड़ा है. हमला करने के लिए विस्फोटक देने वाला भी गिरफ्त में है.

रतलाम के रत्तागड़खेड़ा गांव में कुछ दिन पहले किसान लाल सिंह ने अपने खेत में जैसे ही ट्यूबवेल स्टार्ट किया उसके चिथड़े उड़ गए. पुलिस को प्रारंभिक जांच में ही शक हो गया कि यह हत्या है. जांच में पता चला कि गांव का ही एक युवक घटना वाले दिन से परिवार के साथ गायब है. पुलिस ने उसका मोबाइल ट्रैसिंग से उसका पता लगाया. पूछताछ करने पर वह टूट गया और पूरा खुलासा किया. उसने बताया कि उसने विस्फोटक को मोटर के स्टार्टर से जोड़ा था और जैसे ही लाल सिंह ने बटन दबाया वहां विस्फोट हो गया. 

क्यों रची खूनी साजिश 

लाल सिंह की हत्या में गिरफ्तार सुरेश ने बताया कि एक साल पहले पूर्व सरपंच भवरलाल, लाल सिंह और दिनेश ने उसकी पत्नी के साथ गैंगरेप किया था. तीनों उसे भी धमकी दे रहे थे, इसके बाद उसने तीनों को मारने की कसम खाई. सबसे पहले उसने भवरलाल को मारने की कोशिश की थी. उसे भी इसी स्टाइल से मारना चाहता था, लेकिन उस समय कम विस्फोटक के कारण उसकी मौत नहीं हुई, इसके बाद 4 जनवरी रात 3 बजे वह लालसिंह के खेत पर पहुंचा. पेचकस और कुदाली से मिट्टी खोदी और 14 रॉड और डेट्रॉनेटर ट्यूबवेल के स्टार्टर से जोड़ दिया. इसके बाद सुबह जैसे ही लालसिंह ने स्टार्टर का बटन दबाया, उसके शरीर का चीथड़े उड़ गए. 

Leave a Reply