रावण के पास भी सीता सुरक्षित थी लेकिन यहां रामराज्य में भी वह सुरक्षित नहीं है। वह श्रीराम के पास जा रही है…।  चुर्खी थाना क्षेत्र की ग्राम बाबई निवासी युवती ने आत्महत्या करने के पहले कुछ ऐसा ही सुसाइड नोट लिखा था। झांसी जिले के गुरसराय स्वास्थ्य केंद्र में संविदा पर नर्स के पद पर तैनात द्रौपदी ने यह आत्मघाती कदम क्यों उठाया, पुलिस इसकी जांच कर रही है। प्रथम दृष्टया पुलिस मामले को प्रेम प्रसंग से जोड़कर देख रही है। पुलिस के अनुसार प्रेम में मिले धोखे के बाद ही युवती ने आत्महत्या की है। स्वजन की तहरीर पर चार अज्ञात लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है। पूरे मामले की विवेचना की जा रही है। 

चुर्खी थाना क्षेत्र के ग्राम बाबई निवासी विजय शंकर वर्मा की 26 वर्षीय पुत्री द्रौपदी झांसी जिले के गुरसराय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में संविदा कर्मी के रूप में तैनात थी। जिसने मंगलवार की रात किराए के कमरे में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। सूचना पर पहुंचे स्वजन ने अपनी पुत्री का आत्महत्या से इन्कार किया था। पुलिस को युवती के शव के पास सुसाइट नोट बरामद हुआ था। जिसमें प्रेम प्रसंग का मामला सामने आया है। जिसमें लिखा था कि वह जीना चाहती है लेकिन जी नहीं पा रही है। 

रावण के पास भी सीता सुरक्षित थी लेकिन यहां रामराज्य में भी वह सुरक्षित नहीं है। वह श्रीराम के पास जा रही है। इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की है। पुलिस ने चार अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। गुरसराय के थाना प्रभारी अरुण तिवारी ने कहा कि जांच चल रही है। जल्द ही आरोपितों को भी गिरफ्तार कर घटना की पूरी हकीकत सामने लाने का प्रयास किया जाएगा। 

सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के टेलीग्राम चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के ट्विटर हैंडल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.

Leave a Reply