सीतामढ़ी में शिक्षा व्यवस्था की पोल खोलती यह तस्वीर बेलसंड प्रखंड के परतापुर स्थित मध्य विद्यालय की है जहां शिक्षिका पढ़ाने की बजाय डेस्क-बैंच पर आराम फ़रमाती नजर आ रही है। या यूं कहें कि शिक्षिका बच्चों को पढ़ाते-पढ़ाते थक गई हो और कुछ पल के लिए आराम कर रही हो।

बिहार बोर्ड 10वीं रिजल्ट, सबसे पहले… सबसे तेज, चेक कीजिए Direct इस Link से

तस्वीर मंगलवार की बताई जा रही है जहां कक्षा में शिक्षिका रंजना कुमारी और निधि कुमारी सो रही थी और बाहर बच्चे खेल रहे थे। इस तस्वीर के सामने आने के बाद अभिभावकों में इसकी शिकायत मुखिया से की। फिर गांव के मुखिया प्रतिनिधि जगरनाथ प्रसाद सिंह अपने सहयोगी के साथ स्कूल पहुंच गए।

विद्यालय की व्यवस्था को देख जगन्नाथ प्रसाद सिंह को काफी तकलीफ हुई और उन्होंने इसकी शिकायत विद्यालय के प्रधानाध्यापक राम सुमेर साह से की। तस्वीर में आराम फरमाती शिक्षिकाओं में से एक अवकाश पर चली गई जबकि दूसरी हाथ में दर्द की शिकायत लेकर आराम करने की बात कहने लगी।

आपको यह भी बता दें कि परतापुर के मध्य विद्यालय में दो अन्य विद्यालय का भी संचालन किया जाता है। सभी बच्चे एक ही प्रांगण में खेलते-कूदते हैं। मध्यान भोजन की अलग-अलग रसोई बनाई गई है जिसमें से कभी एक तो कभी दूसरे रसोई में भोजन बनता है। बच्चों ने बताया कि विद्यालय में समय से मध्यान भोजन भी नहीं मिलता।

सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के टेलीग्राम चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के ट्विटर हैंडल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.

बताते चलें कि सीतामढ़ी के सुदूर इलाकों में संचालित होने वाले सरकारी विद्यालयों की शिकायतें लगातार आती रहती है। जबाबदेह अधिकारियों को लापरवाह शिक्षकों पर कार्रवाई करने की जरूरत है लेकिन इंफेक्शन के नाम पर खानापूर्ति होती है वरना नौनिहालों का भविष्य ऐसे बर्बाद नहीं होता।

© SITAMARHI LIVE | TEAM.

Leave a Reply