जिले में शुक्रवार की रात आंधी-पानी के साथ ओले गिरने से आम-लीची को काफी नुकसान पहुंचा है। जानकारी के अनुसार जिले के विभिन्न प्रखंडों में आंधी-पानी के साथ ओले गिरे। जिससे फसल को नुकसान पहुंचा है। कृषि वैज्ञानिक राम ईश्वर प्रसाद ने बताया कि ओला गिरने से आम के टिकोला पर काला दाग आ जाता है।

इसके बाद आम का फल सरने लगता है। जिससे फसल पैदावार प्रभावित होता हैं। ज्ञात हो कि अप्रैल माह में दो बार आंधी पानी के साथ बारिश हुई है। जिससे किसानों के खेतों में लगी गेहूं की फसल व आम-लीची को काफी नुकसान पहुंचा है। डुमरा के किसान भोला बिहारी सिंह बताते है कि मौसम की मार से किसान परेशान है। पिछले वर्ष भी आंधी-पानी से गेहूं की फसल को नुकसान पहुंचा था।



सैकड़ों एकड़ गेहूं की फसल को नुकसानः सुप्पी। प्रखंड क्षेत्र मे शुक्रवार की रात भीषण आंधी, तूफान, छोटा, छोटा ओलावृष्टि से किसानों को भारी क्षति पहुंची है। किसानों के खेतों लगे गेहूं, सब्जी, आम लीची के फसलों को व्यापक रूप से क्षति हुई है।

प्रखंड क्षेत्र के किसान राजेश कुमार सिंह, अवधेश सिंह, दिनेश सिंह, राम स्वार्थ महतो, रामनरेश यादव समेत करीब एक दर्जन से अधिक किसानों ने बताया कि बीते रात आंधी, ओलावृष्टि एवं वर्षा से प्रखंड क्षेत्र में किसानों को करीब 200 एकड़ के लगे गेहूं फसल के साथ सब्जी, आम, लीची फसलों को नुकसान पहुंचा है। प्रखंड कृषि अधिकारी विवेकानंद झा ने बताया कि फल क्षति का सर्वेक्षण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पिछले दो दिनों

सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के टेलीग्राम चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के ट्विटर हैंडल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.

Leave a Reply