अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदर्शन की आशंका को लेकर पांचवे दिन भी सीतामढ़ी से खुलने वाली व गुजरने वाली सभी 12 ट्रेनें रद्द रही। रेल यातायात पूर्णत: ठप रहा। जिससे रेल से यात्रा करने वाले यात्रियों को परेशानी का सबब बना रहा।

स्टेशन पर दिनभर सन्नाटा पसरा रहा। केवल जगह-जगह रेल की सुरक्षा को लेकर पुलिस बल व दंडाधिकारी तैनात दिखे। ज्ञात हो कि मंगलवार को सुबह से लेकर 12 बजे रात तक सीतामढ़ी से लंबी दूरी की ट्रेनों की परिचालन नहीं होती है।

केवल 12 जोड़ी लोकल ट्रेन रक्सौल, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, पटना व समस्तीपुर के लिए है। जिसका परिचालन ठप है। स्टेशन के सूचना पट्ट पर सीतामढ़ी से खुलने वाली व गुजरने वाली सभी ट्रेनों की रद्द होने सूचना चिपकाया गया है।

स्टेशन अधिक्षक मदन प्रसाद ने बताया मंगलवार को भी रात दस बजे तक सीतामढ़ी से गुजरने वाली एवं खुलने सभी ट्रेनों को रेल मुख्यालय हाजीपुर के द्वारा रद्द ही है। जिसका परिचालन शुरु होने की कोई सूचना है।

उन्होंने कहा केवल दिल्ली को जाने वाली लिच्छवी एक्सप्रेस की आने सूचना दी गई। ट्रेन के आने बाद रात ढ़ाई बजे खुलने का समय निर्धारित है। लोकल ट्रेन का परिचालन ठप रहने से यात्रियों को दिक्क्त: सीतामढ़ी से पश्चिम रक्सौल एवं पूरब दरभंगा जाने के लिए रेल ही मुख्य यातायात का साधन है।

निजी सवारी छोड़ करीब करीब शतप्रतिशत लोग ट्रेन से ही अक्सर इस रुट में जाते हैं। पांच दिनों लोकल ट्रेन का परिचालन ठप रहने से इन रुट के यात्रियों को आवागमन में काफी परेशानी हो रही है।

स्टेशन पर शहर के घोड़ासाहन में नौकरी कर रहे विजय कुमार, विनय कुमार, राजेश, सर्वेश कुमार आदि ने बताया वे प्रतिदिन ट्रेन से आ जाकर कार्य करते हैं। लेकिन ट्रेन नहीं चलने से काफी परेशानी होती है।

Leave a Reply