जिले में करोड़ो रुपये खर्च के बावजूद नल जल योजना दम तोड़ रही है। जिले के 273 पंचायतों में से अधिकांश पंचायतों में नल-जल योजना के तहत लगे नल से पानी नहीं टपक रहा है। कहीं पाईप टूटा है तो कहीं पानी टंकी ही ध्वस्त हो चुका है। अधिकांश जगहों पर शुरू में नल से पानी निकला। इसके कुछ महीने बाद जलापूर्ति ठप गई। तब से अबतक खराब है। गर्मी के मौसम में भी अधिकांश जगहों पर जलापूर्ति नहीं हो पा रही है।

• डुमरा प्रखंड के मुरादपुर पंचायत • के वार्ड 13 में नल से जल नहीं निकल रहा है। वार्ड 16 में नल-जल योजना के तहत कार्य ही नहीं किया गया। यहीं हाल आसपास के पंचायतों में भी है। मेजरगंज के खैरवा पंचायत में एक हजार लीटर का पानी टंकी लगाया गया। जब पानी भरा गया तो टंकी बलास्ट कर गया। इसके बाद जलापूर्ति ठप है। इसी प्रकार से पुपरी, बेलसंड व डुमरा अनुमंडल के विभिन्न प्रखंडों में लगभग एक जैसा ही हाल है। जबकि प्रत्येक पंचायत में नल-जल योजना के तहत लगभग 13 लाख रुपये खर्च किए गहै। लेकिन बहुत कम वार्ड में नियमित रूप से आपूर्ति हो रही है। इसका मुख्य कारण है कि टूटे पाईप व नल की मरम्मत नहीं की जा रही है। इससे जलापूर्ति नहीं हो रही है।

प्रखंड क्षेत्र में नल-जल योजना के तहत घाटिया सामग्री का प्रयोग किया गया है। जिससे अधिकांश जगहों पर जलापूर्ति योजना ठप है। प्रखंड के खैरवा पंचायत के वार्ड सात में पांच माह पूर्व योजना पूर्ण होने के बाद 1000 लीटर क्षमता वाला टंकी लगाया गया। लेकिन मोटर से पानी भरने के बाद टंकी बर्स्ट कर गया। जिससे घर में नल से जल प्राप्त करने की आस में बैठे लोगों को योजना का लाभ भी नहीं मिल रहा है। यह लगभग 15 लाख की थी। मुखिया ओम प्रकाश साह ने बताया कि उक्त योजना पूर्व मुखिया भरत साह के कार्य काल की है।

परंतु इसकी सूचना वरीय अधिकारियों को दे दी गई है। कहीं प्लांट कमजोर तो कहीं टंकी बेकार। कहीं जमीन में बिछे प्लास्टिक बेकार तो कहीं मोटर निष्क्रिय। प्रखण्ड में कहीं भी नियमित पेय जल की आपूर्ति नहीं होरही है। क्षेत्रीय प्रबुद्ध लोगों का कहना है कि इस से कम खर्च में प्रखंड के हर परिवार में चापाकल लगवाकर शुद्ध पेय जल मुहैया कराया जा सकता था।

सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के टेलीग्राम चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के ट्विटर हैंडल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.

Leave a Reply