बिहार सरकार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन मंगलवार को सीतामढ़ी पहुंचे. सुबह समाहरणालय में उन्होंने अधिकारियों के साथ बैठक कर जिले में चल रही विभाग की योजनाओं के बारे में जानकारी ली. डीएम मनेश कुमार मीणा ने उन्हें विस्तार से एक-एक योजनाओं की जानकारी दी.

बैठक में जिलाधिकारी मनेश कुमार मीणा द्वारा पी.पी.टी. के माध्यम से तीन वर्षों का लक्ष्य एवं उपलब्धि बताया गया. प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत लाभार्थी संदीप कुमार द्वारा पंद्रह लाख की परियोजना लागत से मुर्गी दाना का उद्योग जिले में शुरूआत किया गया हैं.

इस योजना का लाभ पाकर संदीप ने पाँच श्रमिकों को रोजगार दिया, साथ ही लाभार्थी का स्वावलंबी एवं आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हुई है. मुख्यमंत्री उद्यमी योजना वर्ष 2018 से लागू हुआ. इस योजना के तहत अधिकतम दस लाख रुपए का ऋण दिया जाता है.

इस योजना के तहत लाभार्थी नरेंद्र राम द्वारा दस लाख की परियोजना लागत से गेट ग्रिल उद्योग स्थापित किया गया जिसमें उन्होंने दो श्रमिकों को रोजगार दिया. इस योजना का लाभ पाकर लाभार्थी गेट ग्रिल एवं कृषि यंत्र बनाते हैं.

जिले में अन्य उद्यमी लाभार्थी सत्यनारायण चौधरी बल्लीगढ़ रुनीसैदपुर द्वारा पता प्लेट उद्योग, चेतन कुमार मधुबन गोट बाजपट्टी से दाल मिल उद्योग, शोभा कुमारी भवदेपुर गोट रीगा से रेडीमेड गारमेंट्स से संबंधित उद्योग, मोहम्मद अमजद आलम मुरहा घाट मेजरगंज से फर्नीचर उद्योग स्थापित कर 20 श्रमिकों को रोजगार दिया गया है।

जिले में और उद्यमी लाभार्थियों द्वारा भी उद्योग पाकर बेरोजगारों को रोजगार सृजन किया जा रहा है। जिला नव प्रवर्तन क्लस्टर योजना (कोविड-19) के दौरान प्रवासी श्रमिकों के लिए लागू की गई थी जो कोविड काल में वापस अपने घर आए थे.

इस योजना का उद्देश्य प्रवासी श्रमिकों को यहीं पर रोजगार उपलब्ध कराना था, जो यहाँ रहकर अपने जीविकोपार्जन के लिए अपना उद्योग स्थापित कर सके। इस योजना के तहत बाजपट्टी एवं बोखरा प्रखंड में रेडीमेड वस्त्र का उत्पादन किया जा रहा है. बथनाहा प्रखंड में चमड़े का जूता, चप्पल उत्पादन किया जाता है तथा सुप्पी प्रखंड में पेवर ब्लॉक का उत्पादन किया जा रहा है।

एसआईबीपी के तहत जिले में 12 लाभुकों के आवेदन पर कार्य करने का निर्देश दिया गया है। मंत्री द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना, मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तहत विकास कुमार, हनुमान कुमार, मनोज कुमार, महिला उद्यमी सोनी कुमारी, अति पिछड़ा वर्ग से मनोज कुमार, दिवेश कुमार उद्यमियों से संवाद कर योजनाओं की जानकारी ली गई.

सभी लाभार्थियों द्वारा योजनाओं का लाभ पाकर कर काफी खुशी व्यक्त किया गया तथा इन योजनाओं से बेरोजगारों के लिए रोजगार सृजन करने का बेहतर कार्य बताया गया। मंत्री द्वारा जिले में जल्द ही सभी के साथ उद्योग सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा. उन्होंने बैंकों को ज्यादा से ज्यादा लक्ष्य प्राप्ति की ओर निर्देश दिया गया।

बैठक में मंत्री एवं जनप्रतिनिधियों तथा जिले के अधिकारियों द्वारा नवप्रवर्तन क्लस्टर योजना के तहत बोखरा में रेडीमेड से उत्पादित वस्तुओं का निरीक्षण किया गया. उनके कार्यों की काफी सराहना की गई एवं बधाई दी गई. मंत्री द्वारा आने वाली कठिनाइयों को दूर करते हुए रोजगार सृजन के लिए जिलाधिकारी, उप विकास आयुक्त तथा सभी प्रखंडों के पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को जीविका के माध्यम से प्रचार प्रसार किया जाए ताकि वृहद क्लस्टर के रूप में जिला को विकसित किया जाए।

साथ ही स्थानीय कुटीर उद्योग को भी बढ़ावा दिया जाए ताकि स्थानीय किसान इससे लाभान्वित हो सके. उत्पादित वस्तुओं के लिए बाजार की व्यवस्था की जाए ताकि उत्पादकों द्वारा आसानी से सामान बिक्री किया जा सके. बैठक के अंत में जिलाधिकारी द्वारा मंत्री को आश्वस्त किया गया कि जल्द ही संबंधित पदाधिकारियों के साथ बैठक कर जिले में उद्योग का विस्तार किया जाएगा।

उक्त बैठक में सांसद सीतामढ़ी सुनील कुमार पिंटू, विधान परिषद सदस्या रेखा कुमारी, विधानसभा सदस्य मिथिलेश कुमार, पंकज मिश्रा, अनिल कुमार, जिलादाधिकारी मनेश कुमार मीणा, उप विकास आयुक्त विनय कुमार, सभी अनुमंडल पदाधिकारी, महाप्रबंधक जिला उद्योग केंद्र बिजेंद्र कुमार, जिला उद्योग विस्तार पदाधिकारी ललित कुमार, हरीश कुमार, एलडीएम लालबाबू पासवान, आरसेटी निदेशक सुनील कुमार महतो एवं जिले के सभी वरीय पदाधिकारी उपस्थित थे.

Team.

Leave a Reply