प्यार के किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे लेकिन पटना में एक बर्थडे पार्टी में हुए प्यार के बाद हुई शादी की खूब चर्चा हो रही है। पटना से सटे नौबतपुर में एक प्रेमी जोड़े को महज सात दिन पहले प्यार हुए और दोनों ने साथ रहने का फैसला कर लिया। प्रेमी जोड़े की जिद के आगे खरमास में ही स्जवनों ने मंदिर में उनकी शादी करवा दी। बताया जाता है कि साली अपने जीजा के बच्चे के बर्थडे में नौबतपुर आई थी। इसी दौरान उसकी निगाह जीजा के भाई से मिल गई।

नौबतपुर मे कर्णपुरा गांव में प्रेमी जोड़े की हुई शादी की खूब चर्चा हो रही है। महज सात दिनों वाले प्यार के बाद प्रेमी जोड़े की शादी कराई गई है। नौबतपुर के कर्णपुरा गांव में सात दिन पहले जन्मदिन पार्टी मे शामिल होने आयी साली को जीजा के छोटे भाई से प्यार हो गया। प्यार भी ऐसा की सात दिनों मे दोनों एक दूसरे को इस कदर चाहने लगे की जीवन भर साथ रहने का फैसला कर लिया। दोनों की जिद के बाद मुखिया, सरपंच के उपस्थिति में स्वजनों ने प्रेमी युगल की शादी शिव मंदिर में करवा दी। महिलाओं ने मंगल गीत गाए और प्रेमी जोड़े शादी के बंधन में बांध गये।

सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के व्हाट्सएप ग्रुप में ऐड होने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के टेलीग्राम चैनल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.
सीतामढ़ी लाइव न्यूज़ के ट्विटर हैंडल से जुड़ने के लिए क्लिक करें.

नौबतपुर मे कर्णपुरा गांव में प्रेमी जोड़े की हुई शादी की खूब चर्चा हो रही है। महज सात दिनों वाले प्यार के बाद प्रेमी जोड़े की शादी कराई गई है। नौबतपुर के कर्णपुरा गांव में सात दिन पहले जन्मदिन पार्टी मे शामिल होने आयी साली को जीजा के छोटे भाई से प्यार हो गया। प्यार भी ऐसा की सात दिनों मे दोनों एक दूसरे को इस कदर चाहने लगे की जीवन भर साथ रहने का फैसला कर लिया। दोनों की जिद के बाद मुखिया, सरपंच के उपस्थिति में स्वजनों ने प्रेमी युगल की शादी शिव मंदिर में करवा दी। महिलाओं ने मंगल गीत गाए और प्रेमी जोड़े शादी के बंधन में बांध गये।

दरअसल, कर्णपुरा गांव का मनीष कुमार के घर उनके भाई की साली बर्थडे पार्टी में सात दिन पहले दानापुर के नासरीगंज से आई थी। दोनों के बीच ऐसा प्यार पनपा की रातों रात दोनों ने स्वजनों से अपने प्यार की बात कही और शादी कराने की बात कही। जिसके बाद आनन-फानन में स्वजनों ने खरमास माह में ही बिना शुभ मुहूर्त के मंगलवार की सुबह शिव मंदिर में शादी के लिए एकत्रित हुए । इस बीच कर्णपुरा गांव के लोग भी मंदिर पहुंचे दोनों के स्वजनों को मंदिर बुलाया गया और फिर मंगल गीत शुरू हो गया। इसके बाद बाजार से शादी का जोड़ा मंगाया गया और दोनों का हिन्दु रीति रिवाज से मंदिर में विवाह संपन्न कराया गया। बिना मुहूर्त और बैंड-बाजे की शादी में दर्जनों ग्रामीण शरीक भी हुए।

Leave a Reply