समस्तीपुर रेल मंडल क्षेत्र के दर्जनों रेलवे स्टेशन पर करोड़ों की लागत से लगाए गए वाई-फाई यात्रियों के लिए सफेद हाथी साबित हो रहा है। वर्ष 2019 में समस्तीपुर मंडल क्षेत्र के 64 रेलवे स्टेशनों पर रेलवे द्वारा वाई फाई की सुविधा बहाल करने की जिम्मेदारी टाटा ट्रस्ट नामक कंपनी ने ली थी। इसके तहत मंडल क्षेत्र के 64 रेलवे स्टेशनों पर वाई फाई से लैस किया गया।

तब कंपनी द्वारा बताया गया था कि स्टेशन पर लगे वाईफाई प्वाइंट से 100 मीटर पूरब, 100 पश्चिम, 100 उत्तर तथा 100 दक्षिण में रेलवे स्टेशन पर वाई-फाई काम करेगा। यानी स्टेशन के सभी प्लेटफॉर्म, टिकट काउंटर और सर्कुलेटिग एरिया में यात्रियों को निशुल्क 24 घंटे यह सुविधा मिलेगी। लेकिन यह हवा-हवाई साबित हुआ।

दरभंगा – नरकटियागंज रेल खंड के बीच मुहम्मदपुर, कमतौल, जोगियारा, जनकपुर रोड, बाजपट्टी, परसौनी, भीसा, सीतामढ़ी, रीगा, ढेंग, बैरगनिया, कुंडवा चैनपुर, घोडासहन, छौड़ादनो, आदापुर तथा रक्सौल जंक्शन रेलवे स्टेशन के अलावा अन्य स्टेशनों पर बेकार की वास्तु साबित हो रही है। वाई फाई सुविधा प्वाइंट से सौ मीटर दूर 15 से 20 कदम की दूरी तक काम नहीं कर पा रहा है।

समस्तीपुर मंडल क्षेत्र में स्टेशनों पर लगे वाई-फाई को लेकर पूछे जाने पर सीनियर डीएसटीई समस्तीपुर ने बताया कि मंडल क्षेत्र में लगे वाई फाई की टेंडर हम लोगों द्वारा नहीं किया गया था। यह मामला वर्ष 2018-19 का है। जिसे रेलटेल द्वारा टाटा कंपनी को प्रोजेक्ट किया था। बताया कि उसका रेंज 10 से 15 मीटर की एरिया क्षेत्र है। अगर एक ही प्वाइंट पर पांच हजार लोग जुड़ जाएंगे तो ओभी काम करना बंद कर देगा।

Leave a Reply